hindiallnews

lifestyle/myth news, lovelife news, tech news, lifestyle news, health news, all news, jokes, news, jobs news, health tips,

Friday, July 23, 2021

/ BIS क्या हैं?BIS का फुल फॉर्म क्या होता हैं? bis full form | bis full form in hindi

BIS क्या हैं?BIS का फुल फॉर्म क्या होता हैं? bis full form | bis full form in hindi

BIS का फुल फॉर्म क्या होता हैं जानें? 

bis full form
bis-full-form

BIS का full form क्या होता हैं?

दोस्तों बहुत-बहुत स्वागत है आपका हमारी एक और शानदार इंटरेस्टिंग पोस्ट में दोस्तों आपने BIS का नाम तो जरूर सुना होगा परंतु क्या आप जानते हैं यह बी आई एस क्या है और इसके अतिरिक्त BIS का full form क्या होता है इसके अलावा बी आई एस को हिंदी और इंग्लिश भाषा में क्या कहा जाता है।

यदि आप नहीं जानते तो घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको BIS के विषय के बारे में उपरोक्त सारी जानकारी देने वाले हैं।

और इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आपको BIS के विषय के बारे में उपरोक्त सारी जानकारी प्राप्त हो जाएगी तो कृपया आप पोस्ट पर शुरू से लेकर अंत तक बने रहें तो चलिए बिना किसी देरी की आज की इंटरेस्टिंग पोस्ट को शुरू करते हैं।


BIS क्या हैं? - what is the full form of bis?

BIS भारत का राष्ट्रीय मानक निकाय है BIS का पूरा नाम [ Bureau of Indian Standards ] होता है और बीआईएस को हिंदी में [ भारतीय मानक ब्यूरो ] कहा जाता है BIS का अर्थ यह भारतीय मानक ब्यूरो है।

और वह जो मानकों उत्पादों और साथ ही वह प्रणालियों के प्रमाणन योजनाओं से वह परीक्षण और इसके साथ ही वह अंशांकन सेवाओं आदि की वह तैयारी और साथ ही वह उस कार्यान्वयन में लगी हुई है।

और बता देे की यह इसका मुख्यालय वह नई दिल्ली में स्थित है  और इसके साथ ही वह सभी पांच क्षेत्रीय कार्यालय हैं और वह जो की भारत मै चंडीगढ़, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और साथ ही वह दिल्ली, 2015 तक और वह श्रीमती और साथ ही वह अलका पांडा BIS की महानिदेशक हैं।

दोस्तो अगर हम सदारण शब्दों में कहें तो यह BIS एक भारतीय मानक ब्यूरो हॉलमार्क होता है और वह जो बहुमूल्य धातुओ पर मोहर द्वारा ही लगाया जाता है और वह जैसे कि यह Platinum, Gold, Silver इत्यादि और वह बहुमूल्य धातुओं में मिलावट को रोकने के लिए ही BIS का इस्तेमाल किया जाता है।

और वह ताकि जिस से वह सभी तरह के बहुमूल्य की धातुएं से वह ज्यादा से ज्यादा शुद्ध होने का ही प्रमाण पाया जा सके और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।


BIS का इतिहास क्या हैं? 

BIS के इतिहास की बात करें तो इसका इतिहास बहुत पुराना है आपको बता दें कि वह भारत मानक ब्यूरो वह (BIS) 6 जनवरी सन1947 से वह अपना काम कर रहा है और वह पहले से ही यह आइएसआइ के नाम से ही वह काम करता था।।

और यह देश के वह राष्ट्रध्वज तिरंगे का ही वह आकार भी BIS ने ही वह तैयार किया था और वह साथ ही यह अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप बना है और बता दे की यह संसद के वह अधिनियम दिनांक से वह 26 नवम्बर सन1986 के द्वारा ही वह 01 अप्रैल सन1987 को ही वह भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) अस्तित्व में ही आया है।

और वह की जिस से उसका वह कार्यक्षेत्र व्यापक ही हुआ है और वह उसके साथ उसे पूर्ववर्ती स्टाफ और वह देयताएं और प्रकार्य मिले है और आप को बता दे की यह (BIS) भारतीय मानक संस्थान (आईएसआई) 06 जनवरी सन1947 को ही वह अस्तित्व में आया है।

और साथ ही वह जून सन1947 को डा लाल सी वह वर्मन ने इसके पहले ही वह निदेशक का ही कार्यभार संभाला हुआ है और वह भारत देश में वह पूर्व में BIS एक्ट सन1986 को ही लागू था।

और वह लेकिन मार्च सन2016 को ही वह  संसद ने यह BIS सन2016 एक्ट को पारित कर इसे नया रूप दिया था और यह बहुत महत्वपूर्ण है।


BIS का फुल फॉर्म क्या होता हैं? - full form of bis?

BIS का फुल फॉर्म [ Bureau of Indian Standards ] होता है BIS यह एक हॉलमार्क होता है जिसे सभी BIS बोलते हैं और बता दे की यह BIS (Bureau of Indian Standard) एक code ही होता है और वह की जिसे बहु मूल्य धातुओं पर ही वह मोहर के द्वारा ही वह लगाया जाता है।

और वह एक बहु मूल्य धातुओं के उपर ही वह BIS को मोहर के साथ ही वह हॉलमार्क के हिसाब से ही वह एक code ही लिखा जाता है और बता दे की वह बहुत सारे वह बहु मूल्य धातुओं का होता है।

वह जैसे की वह सोना, हीरा साथ ही तम्वां (gold, diamond, silver, platinum etc) इसी तरीके से वह और भी बहुत सारे धातुओं का होता है और बता दे की यह Gold, platinum, silver जैसे।

वह बहु मूल्य के धातुओं में वह किसी भी दूसरे के पदार्थ की मिलावट को वह रोकने के लिए ही BIS हॉलमार्क को मोहर के साथ ही वह लगाया जाता है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।

दोस्तों अब हमने bis ka full form क्या होता है इसके बारे में अच्छे से जान लिया है चलिए अब आगे बढ़ते हैं और इसके अतिरिक्त और ज्यादा जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।


BIS का फुल फॉर्म हिंदी मैं क्या होता हैं? - bis full form in hindi?

BIS का फुल फॉर्म हिंदी मैं [ भारतीय मानक ब्यूरो ] होता है और आप को बता दे की यह BIS को एक code के रुप में ही वह लिखा जाता है और वह साथ ही यह BIS हॉलमार्क चिन्ह का वह बहु मूल्य धातुओं।

के वह सभी तरह की उन मिलावट को रोकने में मददगार साबित होता है और वह यह BIS हॉलमार्क चिन्ह वह लगाना का मकसद यह होता है।
 
बी - भारतीय
आई - मानक
एस - ब्यूरो

की वह BIS के सहायता से बहु मूल्य धातुओं ज्यादा से ज्यादा शुद्ध रहता है और वह BIS हॉलमार्क के जरिए ही वह किसी भी तरह की धातुओं pure शुद्ध धातु है या नहीं है यह बहुत ही आसानी से पता कर सकते हैं।

और यह बहुत महत्वपूर्ण होता है इससे किसी भी धातु की शुद्धता को बहुत आसानी से पहचाना जा सकता है।


BIS का फुल फॉर्म इंग्लिश मैं क्या होता हैं? - bis full form in english?

BIS का फुल फॉर्म इंग्लिश मैं [ Bureau of Indian Standards ] होता है और यह BIS हॉलमार्क का एक वह code लिखा जाता है और वह जो की भारत देश में सोने (Gold) कि शुद्धता को वह चिन्हट करने करने के लिए ही वह सोने को भी BIC हॉलमार्क के जरिए ही मोहर।

के साथ में वह 22 कैरेट में मापा जाता है और वह जैसे की वह सोने को हॉलमार्क code के साथ ही वह 926 अंक लगाया जाता है और वह तो इसका अर्थ यह होता है।

B - BUREAU OF
I - INDIAN
S - STANDARDS

कि वह इस में 92.6% शुद्ध (pure) सोना होता है और वह को इसी प्रकार से हर सोने में कितना प्रतिशत शुद्ध सोना है और वह उसके हिसाब से ही वह हॉलमार्क अंक पर ही लगाया जाता है।

और यह वह अलग अलग प्रतिशत के लिए अलग अलग ही वह हॉलमार्क अंक लगाया जाता है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।


BIS की प्रमुख गतिविधियाँ क्या क्या होती हैं?

BIS की प्रमुख गतिविधियां निम्नलिखित में नीचे दी गई है और वह प्रमुख गतिविधियां कुछ इस प्रकार होती है जैसे - 


BIS प्रमुख गतिविधियाँ : 

  1. सबसे पहले वह उत्पाद प्रमाणन योजनाएँ
  2. और हॉल मार्किंग योजना
  3. और प्रयोगशाला मान्यता योजना
  4. मानक निर्माण
  5. उत्पाद योजनाएं
  6. और वह विदेशी निर्माता प्रमाणन योजना
  7. और उपभोक्ता संबंधी गतिविधियाँ


BIS के लाभ क्या-क्या होते हैं?

BIS के बहुत सारे लाभ होते हैं और वह लाभ निम्नलिखित में नीचे दिए गए वह कुछ इस प्रकार होते हैं जैसे - 


BENEFITS OF BIS :

  1. BIS का सबसे पहला फायदा यह BIS निर्यात और आयात विकल्प को बढ़ावा देता है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।
  2. और उसके साथ वह BIS उपभोक्ताओं के लिए वह स्वास्थ्य के वह संबंधी खतरों को कम करता है और यह सबसे अच्छी बात है।
  3. और वह उसके अतिरिक्त ही BIS उपभोक्ताओं के लिए यह एक सुरक्षित वह विश्वसनीय गुणवत्ता के वह सामान को ही यह सुनिश्चित करता है और यह एक सबसे बड़ा फायदा होता है।


BIS की आवश्यकता क्यों है? - Why is BIS needed?

हम आपको बता दें कि यह BIS प्रमाणन प्रमाणपत्र यह धारक को वह ग्राहकों को उन उत्पादों की गुणवत्ता और साथ ही सुरक्षा और विश्वसनीयता की तृतीय पक्ष गारंटी प्रदान करने में सक्षम बनाता है और यह वह मुख्य रूप से ही वह वस्तुओं के ही आयात के लिए आवश्यक होता है।

और वह जबकि यह प्रमाणन स्वैच्छिक रहा है और वह इसे भारत देश की सरकार द्वारा ही वहकई मदों के लिए ही अनिवार्य कर दिया गया था और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।


BIS प्रमाणपत्र की आवश्यकता किसे है? - Who needs BIS certificate?

दोस्तो यदि आप नहीं जानते तो आप को बता दे की यह BIS पंजीकरण प्रमाणपत्र वह केवल विनिर्माण इकाइयों को ही वह जारी किया जाता है और साथ ही वह कोई भी आयातक या वह व्यापारी इसे अपने नाम से भी वह प्राप्त नहीं कर सकता है।

और वह सभी तरह के आयातकों और व्यापारियों को ही वह अनुसूचित इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं के लिए ही वह अपना ऑर्डर देने से पहले ही वह अपनी से संबंधित विनिर्माण इकाई के लिए ही वह BIS पंजीकरण भी प्राप्त करने की आवश्यकता होती है और यह सबसे बेहतरीन होता हैं।


खाने में BIS क्या है? - What is BIS in food?

हम आपको बता दे की यह एक BIS (भारतीय मानक ब्यूरो) अधिनियम वह सन2016 के द्वारा ही वह सशक्त भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) के वह उत्पाद प्रमाणन से वह सभी तरह की वह योजनाएं को ही संचालित करता है।

और वह जिसके द्वारा ही वह यह कृषि और साथ ही यह वस्त्र से लेकर वह इलेक्ट्रॉनिक्स तक ही यह व्यावहारिक रूप से ही वह हर तरह के औद्योगिक अनुशासन को ही वह अच्छी तरह से ही कवर करने वाले निर्माताओं को लाइसेंस प्रदान करता है और यह सबसे अच्छा होता है।


BIS लाइसेंस क्या है? - What is BIS Licence?

यदि आप नहीं जानते तो इसके बारे में हम आप को बता दे की यह (BIS) प्रमाणन में 'बीआईएस' वह एक भारतीय मानक ब्यूरो के लिए होता है और साथ ही वह भारतीय उपभोक्ता संरक्षण खाद्य और साथ ही वह सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की वह छत्रछाया में राष्ट्रीय भारतीय प्रमाणन निकाय है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता है।


क्या BIS LOGO का उपयोग कर सकते हैं? - Can we use BIS logo?

तो आप को हम बता दे की यह BIS (भारतीय मानक ब्यूरो) अधिनियम मै वह सन2016 के ही वह प्रावधानों के तहत ही वह संचालित अनुरूपता पर ही वह मूल्यांकन योजना/हॉलमार्किंग योजना के तहत बड़ी वह संख्या में ही यह उत्पादों पर BIS मानक चिह्न का इस्तेमाल करने के लिए ही वह लाइसेंस के निर्माताओं।

को ही वह दिए जाते हैं और वह प्रत्येक उत्पाद के लिए मानक चिह्न अद्वितीय है और साथ ही इसको यह अधिसूचित किया जाता है की भारत देश के राजपत्र में है।


BIS नौकरी क्या है? - What is BIS job?

तो हम आपको बता दे की BIS यह भारत देश का राष्ट्रीय मानक निकाय होता है और इसकी स्थापना BIS अधिनियम वह सन2016 के तहत वह सभी तरह के मानकीकरण और वह अंकन गुणवत्ता प्रमाणन की वह गतिविधियों के लिए सामंजस्यपूर्ण विकास के लिए।

और उस से जुड़े वह या उसके प्रासंगिक मामलों के लिए की गई थी और वह मानकीकरण, प्रमाणन और साथ ही वह परीक्षण के माध्यम से ही होता है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता हैं।


BIS के लिए पंजीकरण कैसे करते हैं? - How do I register for BIS?

दोस्तो यदि आप नहीं जानते तो बता दे की यह BIS निर्धारित नामांकन वह फॉर्म का इस्तेमाल करके यह एक ही वह अधिकृत भारतीय प्रतिनिधि (AIR) को ही नामांकित करें और आप यह सुनिश्चित करें कि आवेदन पूरा हो गया है।

और उसके बाद आप दस्तावेजों की चेकलिस्ट देखें और यह अपेक्षित शुल्क के साथ विधिवत भरा हुआ और पूरा आवेदन जमा करें और उसे वह दस्तावेज (डुप्लिकेट में) और एफएमसीडी साथ ही वह बीआईएस मुख्यालय, नई दिल्ली में AIR का नामांकन फॉर्म भरे यह सबसे महत्वपूर्ण होता हैं।

दोस्तों मुझे उम्मीद है कि BIS का full form क्या होता है और इसके अतिरिक्त BIS के विषय के बारे में उपरोक्त सारी जानकारी आपको अच्छे से प्राप्त हो गई होगी और इस जानकारी से आपको सीखने को जरूर मिला होगा यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी है और इस जानकारी से आपको सीखने को मिला है।

तो कृपया आप हमें कमेंट के माध्यम से कमेंट करके जरूर जरूर बताएं क्योंकि आपका एक एक कमेंट हमारे लिए बहुमूल्य है कृपया कमेंट जरूर करें और पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक लगातार बिना रुके पढ़ते रहने के लिए आपका दिल से धन्यवाद।


दोस्तों यह bis full form पोस्ट अगर आपको हमारी जानकारी अच्छी लगी है तो आप कॉमेंट करके हमें जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करें और आप हमें फ़ॉलो करना बिलकुल ना भूलें आप हमें फ़ॉलो जरूर करें।Thanks!

No comments:

Post a Comment