hindiallnews

lifestyle/myth news, lovelife news, tech news, lifestyle news, health news, all news, jokes, news, jobs news, health tips,

Wednesday, April 14, 2021

/ EIA का फुल फॉर्म क्या होता हैं? | eia full form | EIA full form in Hindi

EIA का फुल फॉर्म क्या होता हैं? | eia full form | EIA full form in Hindi

EIA का फुल फॉर्म क्या होता हैं जानें?

eia full form
eia-full-form

eia full form क्या होता हैं?

दोस्तों बहुत-बहुत स्वागत है आपका हमारी एक और नई और शानदार इंटरेस्टिंग पोस्ट में क्या आप जानते हैं eia full form क्या होता है अगर नहीं जानते तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पर आए हैं क्योंकि आज हम आपको बताने वाले हैं आज आइए की फुल फॉर्म क्या होती है और इसके अतिरिक्त ईआईए क्या है और EIA की शुरुआत कब हुई थी?

और EIA के पहलू क्या है? और पर्यावरण प्रभाव आकलन का महत्व क्या हैं? पर्यावरण प्रभाव आकलन के लाभ क्या हैं? पर्यावरण प्रभाव आकलन के उद्देश्य क्या हैं? इन सभी के बारे में आपको बताएंगे और आज की पोस्ट बहुत ही ज्यादा शानदार होने वाली है क्योंकि हम आपको सरल भाषा का प्रयोग करके बताने वाले हैं तो चलिए बिना किसी देरी के पोस्ट को शुरू करते हैं।


ईआईए क्या है | What is EIA |

ईआईए सरकार के द्वारा बनाया एक संगठन है जिसको | EIA | पर्यावरण प्रभाव आकलन कहा जाता है और यह संगठन पर्यावरण की सुरक्षा करता है और सरकार द्वारा जनता के विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण को क्या नुकसान हुआ है इसकी जांच करता है।

और पर्यावरण को दूषित होने से बचाता है बहुत सालों में पर्यावरण की हानि की परवाह किए बिना बहुत सारी विकास की परियोजनाएं चलाई गई।

और जिसके फलस्वरूप हमारा पर्यावरण अर्थात वातावरण बहुत ज्यादा दूषित हो गया और सरकार देश की जनता के लिए विकास की परियोजनाओं के प्रभाव से वातावरण को दूषित।

अर्थात पर्यावरण को दूषित देख कर बहुत चिंतित हुई और विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण को कितना हानि हुआ है इसको जांचने और परखने के लिए सरकार ने EIA का गठन किया है।

भविष्य में या आगे आने वाले समय में सरकार देश की जनता के लिए जो विकास की परियोजनाएं लागू होने वाली है उनका पर्यावरण अर्थात वातावरण पर क्या प्रभाव पड़ेगा इसको जांच का कार्य EIA करती है और नाई का गठन पर्यावरण की सुरक्षा के लिए किया गया है और आइए पर्यावरण को कैसे बचाया जाए इसका उपाय करती है।


EIA की शुरुआत कब हुई थी?

EIA की शुरुआत जब साल 1978 में नदी घाटी से संबंधित परियोजना के कारण कार्य शुरू होने वाला था और तब पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए सरकार द्वारा EIA का गठन किया गया और यह पर्यावरण (संरक्षण) ACT 1986 के अंतर्गत मै ही आता है।

और इआईए अब 30 वर्ग की परियोजनाओं के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है या अति आवश्यक है और इनको पर्यावरणीय मंजूरी | Environmental Clearance | तभी मिलती है जब वह EIA की शर्तों को पूरा करते हैं और EIA कि यह मंजूरी सरकार द्वारा अर्थात पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दी जाती है।

और जिन बड़ी बड़ी परियोजनाओं की भारत की सरकार से मंजूरी अर्थात परमिशन लेनी पड़ती है उन सभी परियोजनाओं को विभिन्न विभिन्न भागों में बांटा गया है जैसे -
eia full form
eia-full-form

परियोजनाओं की मंजूरी : 

  1. थर्मल पावर प्लांट 
  2. नदी घाटी परियोजनाएं
  3. आधिरिक संरचना
  4. उद्योग 
  5. खनन
  6. तटीय विनिमयन क्षेत्र के (Costal Regulation Zone)
  7. सभी न्यूक्लिअर पावर परियोजनाएं 

यह सभी परियोजनाएं हैं जिन परियोजनाओं को करने के लिए EIA | पर्यावरण प्रभाव आकलन | अर्थात | सरकार द्वारा | पर्यावरण मंत्रालय से परमिशन अर्थात मंजूरी लेनी पड़ती है।


ईआईए का फुल फॉर्म क्या होता हैं | full form of eia |

EIA का फुल फॉर्म | Environmental Impact Assessment | होता है और EIA को पर्यावरण प्रभाव आकलन भी कहा जाता है और EIA सरकार द्वारा देश की जनता के लिए विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण को हानि होती देख सरकार बहुत ही चिंतित हुई और विकास की परियोजनाओं के प्रभाव से पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए पर्यावरण की जांच करने के लिए कि कितना दूषित हुआ है।

सरकार ने EIA का गठन किया और EIA देश में विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण को कितना नुकसान अर्थात हानि हुई है इसकी जांच करती है और पर्यावरण को पर्यावरण को कैसे प्रदूषित होने से बचाया जाए इसकी नए-नए उपाय ढूंढती हैं।

और किन-किन परियोजनाओं से पर्यावरण को नुकसान नहीं होता है उन परियोजनाओं को खोजती है और EIA पर्यावरण की सुरक्षा करती है।


ईआईए का फुल फॉर्म हिंदी में | EIA full form in Hindi | 

ईआईए का फुल फॉर्म हिंदी में | पर्यावरण प्रभाव आकलन | होता है और EIA को | एनवायर्नमेंटल इम्पैक्ट असेसमेंट | भी कहा जाता है ईआईए वातावरण अर्थात पर्यावरण की सुरक्षा करने हेतु सरकार द्वारा बनाया गया यह गठन होता है EIA देश में किसी भी परियोजना से पर्यावरण को हो रही हानि की जांच करता है और पर्यावरण को किसी भी परियोजना से हानि ना हो इसका उपाय EIA गठन करता है।

ई - पर्यावरण
आई - प्रभाव
ए - आकलन

EIA भारत सरकार द्वारा निर्मित एक गठन होता है किसी भी परियोजना से हो रही पर्यावरण अर्थात वातावरण को हानि इस को रोकना है जांच करनी है और उन विकास की परियोजनाओं को खोजना है जिन्हें परयोजनाओं से देश का विकास भी हो और पर्यावरण को कोई हानि अर्थात नुकसान ना हो।

दोस्तों अब हमने EIA full form in Hindi भाषा में क्या होता है इसको अच्छे से जान और समझ लिया है तो चलिए अब EIA के बारे में अधिक जानकारी जान लेते हैं।


ईआईए का फुल फॉर्म इंग्लिश में | EIA full form in English |

ईआईए का फुल फॉर्म इंग्लिश में | Environmental Impact Assessment | होता है विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण की हानी होते देख पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर चिंतित सरकार ने बहुत महत्वपूर्ण फैसला किया और सरकार ने विकास परियोजनाओं से पर्यावरण को क्या हानि हुई है इसकी जांच के लिए और पर्यावरण की सुरक्षा के लिए EIA का गठन किया।

E - Environmental
I - Impact
A - Assessment

ईआईए एक सरकारी संगठन है सरकार का लक्ष्य पर्यावरण को दूषित होने से बचाना है और EIA सरकार के अधीन काम करती है और यह सरकार की आगे भविष्य में अर्थात आने वाले समय में देश की विकास की जो परियोजनाएं होती हैं।

उन परियोजनाओं का पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ेगा अर्थात पर्यावरण को क्या हानि या लाभ होगा इसका जांच करती है और पर्यावरण की सुरक्षा करती है।

दोस्तों अब हम ने इंग्लिश में eia full form क्या होता हैं इसके बारे में अच्छी तरह से समझ लिया है तो चलिए अब हम EIA के बारे में और अधिक जान लेते है।
eia full form
eia-full-form

EIA के पहलू क्या है?

EIA सरकार द्वारा बनाया गया पर्यावरण की सुरक्षा के लिए संगठन होता है यह पर्यावरण को दूषित होने से बचाता है और पर्यावरण की सुरक्षा करता है पर्यावरण की सुरक्षा ही आइए का महत्वपूर्ण कार्य है अब हम EIA के महत्वपूर्ण पहलू क्या है इसके बारे में जान लेते है।


EIA के पहलू :

  1. संकट का आकलन करना
  2. पर्यावरणीय प्रबंधन
  3. उत्पाद की निगरानी करनी (Monitoring of Post Product)
  4. पर्यावरण सुरक्षा

यह है कुछ महत्वपूर्ण EIA के पहलू आइए पर्यावरण अर्थात वातावरण की सुरक्षा के लिए हेतु ही कार्य करती है।


पर्यावरण प्रभाव आकलन का महत्व पूर्ण कार्य क्या हैं?

अब हम EIA अर्थात पर्यावरण प्रभाव आकलन के महत्वपूर्ण कार्य क्या होते हैं तो बता दें कि पर्यावरण प्रभाव आकलन जिसके नाम से ही सिद्ध होता है कि पर्यावरण को हो रही हानि की जांच करना और पर्यावरण को हो रही।

किसी परियोजना से हानि को रोकना और पर्यावरण की सुरक्षा करना यह कार्य होता है तो चलिए अब हम इसके बारे में और अधिक जान लेते हैं।


पर्यावरण प्रभाव आकलन के कार्य : 

EIA अर्थात पर्यावरण प्रभाव आकलन उचित निर्देशों के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा करने का कार्य करता है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन सरकार द्वारा किसी नहीं विकास परियोजना के शुरू होने के पहले उस परियोजना की जांच करना ताकि उससे पर्यावरण को कोई हानि ना हो सके।

पर्यावरण प्रभाव आकलन उन परियोजनाओं को करने की अनुमति देता है जिससे देश को विकास हो परंतु उन से पर्यावरण को कोई हानि ना हो यह महत्वपूर्ण कार्य EIA करती है।

EIA | पर्यावरण प्रभाव आकलन | उन उपायों को खोजता है जिन उपायों से पर्यावरण को दूषित होने से बचाया जा सके और पर्यावरण के जीव जंतुओं की रक्षा हो सके।

पर्यावरण प्रभाव आकलन का कार्य पर्यावरण पर संकट और पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए उपाय और सरकार को सुझाव देता है।

और मनुष्य की वजह से पर्यावरण को किसी भी तरह की कोई हानि या नुकसान ना हो और पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए EIA पर्यावरण प्रभाव आकलन कार्य करती है।

दोस्तों अब हमने EIA अर्थात पर्यावरण प्रभाव आकलन के क्या कार्य हैं इसको अच्छे से जान और समझ लिया है तो चलिए अब हम इसके बारे में और अधिक और ज्यादा जानकारी जान लेते हैं।
eia full form
eia-full-form

पर्यावरण प्रभाव आकलन के लाभ क्या हैं?

पर्यावरण प्रभाव आकलन अर्थात EIA के लाभ के बारे में जान लेते हैं पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | सबसे ज्यादा लाभ पर्यावरण, मनुष्य, जीव-जंतु, पेड़-पौधे आदि जीवित प्राणी को होता है और | EIA | पर्यावरण प्रभाव आकलन पर्यावरण को दूषित होने से बचाती है और जब पर्यावरण दूषित नहीं होगा।

तो सभी मनुष्य और प्राणी पर्यावरण की शुद्ध हवा में सांस ले पाएंगे और पर्यावरण सुरक्षित है तो जीवन अर्थात जिंदगी है तो चलिए अब जान लेते हैं पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | के क्या लाभ है।


पर्यावरण प्रभाव आकलन के लाभ :

पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | पर्यावरण की सुरक्षा करती है यह सरकार के द्वारा नियम एक संगठन होता है जो हमारे वातावरण की रक्षा करता है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन पर्यावरण की जीव जंतुओं की उपाय के माध्यम से रक्षा करता है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | उन परियोजनाओं को खोजता है जिनसे देश का विकास भी हो और उससे पर्यावरण को कोई भी हानि नहीं पहुंच सके।

पर्यावरण प्रभाव आकलन सरकार को देश के विकास की परियोजनाओं से पर्यावरण को हो रही हानि के बारे में सूचित करता है और पर्यावरण को इन परियोजनाओं से दूषित होने से कैसे बचाया जाए इसके बारे में सरकार को सुझाव अर्थात सलाह भी देता है।

पिछले कई दशकों से पर्यावरण प्रभाव आकलन गठन के कारण पर्यावरण दूषित होने से यह बच गया है और पर्यावरण प्रभाव आकलन पर्यावरण की रक्षा करता है जिससे पर्यावरण को कोई नुकसान ना हो सके।

पर्यावरण प्रभाव आकलन के कारण अब उन परियोजनाओं को करने की अनुमति नहीं दी जाती जिन परियोजनाओं से वातावरण अत्यंत दूषित और प्रदूषित हो जाता है सिर्फ वही परियोजनाओं को अनुमति दी जाती है जिनसे वातावरण दूषित नहीं होता है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन पर्यावरण को दूषित होने से बचाने में बहुत महत्वपूर्ण कार्य करता है और इसका सभी को लाभ प्राप्त होता है।

तो दोस्तों यह है पर्यावरण प्रभाव आकलन के कुछ महत्वपूर्ण लाभ परंतु पर्यावरण प्रभाव आकलन के बहुत सारे लाभ हैं क्योंकि यह पर्यावरण की सुरक्षा करता है और उसको दूषित होने से बचाता है क्योंकि पर्यावरण साफ है तभी जिंदगी है।


पर्यावरण प्रभाव आकलन के उद्देश्य क्या हैं?

पर्यावरण प्रभाव आकलन के उद्देश्य क्या हैं यह जान देते हैं वैसे पर्यावरण प्रभाव आकलन अर्थात EIA सरकार के द्वारा नियमित संगठन जिसका कार्य वातावरण अर्थात पर्यावरण को दूषित होने से बचाना है और उन कारणों को खोजना है जिन कारणों से वातावरण अर्थात पर्यावरण दूषित हो रहा है।

और पर्यावरण प्रभाव आकलन का महत्वपूर्ण उद्देश्य पर्यावरण की सुरक्षा करना है तो चलिए और अधिक पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | के उद्देश्यों के बारे में जान देते हैं।


पर्यावरण प्रभाव आकलन के उद्देश्य : 

पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | का महत्वपूर्ण उद्देश्य पर्यावरण की सुरक्षा करना है और पर्यावरण को दूषित होने से बचाना है।

EIA का उद्देश्य विकास गतिविधियों के आर्थिक पर्यावरणीय और सामाजिक प्रभावों की पहचान भविष्यवाणी और मूल्यांकन करना है

  निर्णय लेने के लिए पर्यावरणीय परिणामों की जानकारी प्रदान करना है।

पर्यावरणीय रूप से ध्वनि और सतत विकास को बढ़ावा देना है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन का उद्देश्य देश में सरकार द्वारा विकास की परियोजनाओं की जांच करना है ताकि उन से पर्यावरण को कोई हानी ना पहुंच सके।

और पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | का उद्देश्य सरकार को यह सुझाव देना है कि वह जनता के विकास के लिए ऐसी परियोजनाएं बनाएं जिनसे जनता अर्थात देश का विकास भी हो और पर्यावरण में हवा मिट्टी पानी जीव-जंतु पेड़-पौधे आदि इन सभी को कोई भी नुकसान अर्थात कोई हानी ना हो सके।

पर्यावरण प्रभाव आकलन का उद्देश्य पर्यावरण के सभी जीव जंतुओं की और पेड़ पौधों की रक्षा करना है अर्थात सुरक्षा करना है।

और पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए उपाय को खोजना है।

पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | का उद्देश्य पर्यावरण को साफ सुथरा और प्रदूषित रहित बनाना है जिसमें हर मनुष्य जीव-जंतु पेड़-पौधे आसानी से शुद्ध और साफ ऑक्सीजन ले सकें।

पर्यावरण प्रभाव आकलन का उद्देश्य आने वाली नई पीढ़ी को साफ सुथरा और सुंदर वातावरण देना है जिन से आने वाली पीढ़ी अपने पुरखों का दिया हुआ साफ सुथरा वातावरण का आनंद ले सकें और पर्यावरण को साफ रख सके और पर्यावरण की सुरक्षा करें।

तो दोस्तों यह है कुछ पर्यावरण प्रभाव आकलन के महत्वपूर्ण उद्देश्य क्योंकि पर्यावरण की सुरक्षा ही हम सब की सुरक्षा है क्योंकि अगर पर्यावरण साफ सुथरा है।

तभी मनुष्य और सभी जीव-जंतु पेड़-पौधे जी रहे हैं अर्थात पर्यावरण साफ सुथरा है तो जिंदगी मुमकिन है हमें अपने पर्यावरण की सुरक्षा अर्थात रक्षा करनी चाहिए।
eia full form
eia-full-form

EIA in India क्या है?

EIA का फुल फॉर्म | Environmental Impact Assessment | होता है यह पर्यावरण अर्थात वातावरण की सुरक्षा करने के लिए बनाया गया एक गठन है और भारत मै पर्यावरण प्रभाव आकलन | EIA | पर्यावरण की सुरक्षा के लिए बनाया गया है।

और यह वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय | MoEFCC | ने 12 मार्च सन 2020 को एक नया मसौदा पर्यावरण प्रभाव आकलन (EIA) 2020 जारी किया गया है और EIA का एक गठन बनाया गया है और जनता से 11 अगस्त तक टिप्पणियां मांगीं थी।

और जनता ने EIA को टिपनिआ कि यह पर्यावरण की सुरक्षा के लिए बहुत सही फैसला है और भारत में फिर EIA का संगठन बन गया।


ईआईए 2020 क्या है | what is eia 2020 |

EIA 2020 की बात करें तो आपको बता दें कि यह
केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित नया ड्राफ्ट Environmental Impact Assessment (EIA) अर्थात पर्यावरण प्रभाव आकलन अधिसूचना 2006 और 2020 के संस्करण से एक प्रतिगामी प्रस्थान है।

और जिससे वह प्रतिस्थापित करना चाहता है और यह पर्यावरण नियमन और मौन प्रभावित समुदायों को कमजोर करने का प्रयास है।


ईआईए प्रक्रिया क्या है | What is EIA process?

EIA एक पर्यावरण की सुरक्षा करने वाला सरकार के द्वारा निर्मित गठन होता है और बता दे की EIA प्रक्रिया का उद्देश्य निर्णय लेने वालों और प्रस्तावित परियोजना को लागू करने के पर्यावरणीय परिणामों के बारे में जनता को सूचित करना है अर्थात बताना होता है।

और यदि EIA प्रक्रिया सफल है तो यह देश जनता विकास की नेई प्रस्तावित परियोजना के दूषित पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए वैकल्पिक और शमन उपायों की पहचान करता है पर्यावरण को देश की जनता के विकास के लिए किसी भी परियोजना से पर्यावरण को कोई नुकसान ना हो।

उन सभी परियोजनाओं की जांच करता है और विकास परियोजनाओं को करने की अनुमति देता है जिनसे विकास भी हो और पर्यावरण को कोई नुकसान ना हो।

दोस्तों मुझे उम्मीद है कि EIA का full form क्या होता है और इसके अतिरिक्त आपको सारी जानकारी अच्छे से समझ में आ गई होगी और आपको इस जानकारी से सीखने को जरूर मिला होगा यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी है।

और हमारी इस जानकारी से आपको कुछ सीखने को मिला है तो कृपया आप हमें कमेंट के माध्यम से कमेंट करके जरूर बताएं क्योंकि आपका एक एक कमेंट हमारे लिए बहुमूल्य कीमती है कृपया कमेंट जरूर करें और पोस्ट पर शुरू से लेकर अंत तक बनने के लिए आपका दिल से धन्यवाद।


दोस्तों यह eia full form पोस्ट अगर आपको हमारी जानकारी अच्छी लगी है तो आप कॉमेंट करके हमें जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करें और आप हमें फ़ॉलो करना बिलकुल ना भूलें आप हमें फ़ॉलो जरूर करें।Thanks!

No comments:

Post a Comment